fbpx
Home / अध्यात्म

अध्यात्म

क्यों बाल मारुती नंदन का एक और नाम रखा गया हनुमान जी

बाल मारुती नंदन यानि हनुमान जी की माता अंजनी और केसरी के पुत्र थे। कथा के अनुसार, अंजनी और केसरी को विवाह के बहुत समय बाद तक संतान की प्राप्ति नहीं हुई थी। तब दोनों पति-पत्नी ने मिलकर पवन देव की तपस्या की थी। पवन देव जी के आशीर्वाद से …

Read More »

मंदिर में जूते चप्पल पहन कर क्यों नहीं जाना चाहिए

हम सभी जानते है की मंदिर में जूते चप्पल पहन कर नहीं जाना चाहिए ऐसा हमें बचपन से ही सिखाया जाता है, मगर ऐसा क्योँ, ऐसा इसलिए मंदिरों का निर्माण इस प्रकार से किया जाता है वहां किसी के द्वारा गंदे पैरों से मंदिर पर प्रवेश करना मतलब वहां की …

Read More »

पूरी लंका जल गई लेकिन विभीषण का भवन क्यों नहीं

आज तक अपने रामायण कई बार पढ़ी होगी मगर अपने शायद ही पढ़ा होगा की पूरी लंका जल गई लेकिन विभीषण का भवन नहीं जला, तो आज की चर्चा में हम आपको बताएँगे की क्या वजह थी जिस कारन विभीषण का भवन रहा सुरक्षित. तो आइये जानते है साधु अवग्या …

Read More »

हनुमान जी में था, इन कामों को करने का सामर्थ्य

धार्मिक ग्रथों के अनुसार भगवान श्रीराम की सहायता हेतु भगवान शिव वानर जाति में हनुमान के रूप में त्रेतायुग में अवतरित हुए थे। जब-जब भगवान श्रीराम पर कोई संकट आया, तब-तब हनुमान जी ने उसे अपनी बुद्धि व पराक्रम से उन संकटो को दूर किया। वाल्मीकि रामायण के उत्तर कांड …

Read More »

मोक्षदा एकादशी व्रत की विधि, कथा, आरती और विशेष महत्त्व

सनातन हिन्दू धर्म में मोक्ष को मनुष्य जीवन का लक्ष्य माना जाता है आत्मा कर्म अनुसार मनुष्य जीवन पाती है इसका मुख्य उद्देश्य सत्कर्म कर मोक्ष की प्राप्ति है इसलिए मानव जीवन को अन्य योनियों में सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण माना गया है। मान्यता है कि मोक्ष प्राप्त किए बिना मनुष्य …

Read More »

हिंदू इतिहास और पुराण अनुसार यह हैं आठ चिरंजीवी

हिंदू इतिहास और पुराण अनुसार ऐसे आठ व्यक्ति हैं, जो चिरंजीवी हैं। यह सब किसी न किसी वचन, नियम या शाप से बंधे हुए हैं और यह सभी दिव्य शक्तियों से संपन्न है। योग में जिन अष्ट सिद्धियों की बात कही गई है वे सारी शक्तियाँ इनमें विद्यमान है। यह …

Read More »

सुंदरकांड से जुडी कुछ रोचक प्रश्नोत्तरी, जरुर पढ़ें

1 :- सुंदरकाण्ड का नाम सुंदरकाण्ड क्यों रखा गया? हनुमानजी, सीताजी की खोज में लंका गए थे और लंका त्रिकुटांचल पर्वत पर बसी हुई थी। त्रिकुटांचल पर्वत यानी यहां 3 पर्वत थे। पहला सुबैल पर्वत, जहां के मैदान में युद्ध हुआ था। दुसरा नील पर्वत, जहां राक्षसों के महल बसे …

Read More »

जानिये विस्तार से “मलमास” क्या होता है और कब लगता है

सूर्य के बृहस्पति की धनुराशि में गोचर करने से खरमास, मलमास शुरू होता है । यह स्थिति मकरसंक्रान्ति तक रहती है। इस कारण मांगलिक कार्य नहीं होते है। जैसे ही सूर्य धनु राशि में प्रवेश करता है तभी से मलमास आरम्भ हो जाता है और इसी के साथ शादी विवाह …

Read More »

सोमनाथ मंदिर के इतिहास की वो 32 रोचक बातें जो शायद आप भी नहीं जानते होंगे

आज की चर्चा में हम आपको बताएँगे पवित्र सोमनाथ मंदिर की वो 32 रोचक बातें जिनकी वजह से हमेशा विदेशियों के निशाने पर रहा यह पवित्र मंदिर. तो आइये जानते है वो बातें. 1  12 ज्योतिर्लिंगों में सर्वप्रथम : सोमनाथ मंदिर एक महत्वपूर्ण हिन्दू मंदिर है, जिसकी गिनती 12 ज्योतिर्लिंगों में …

Read More »

भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए क्योँ किया जाता है रुद्राभिषेक

मित्रों, भगवान शिव (महादेव) को प्रसन्न करने का रामबाण उपाय है रुद्राभिषेक, शास्त्रों के जानकारों की मानें तो सही समय पर रुद्राभिषेक करके आप शिवजी से मनचाहा वरदान पा सकते हैं, क्योंकि शिवजी के रुद्र रूप को बहुत प्रिय है अभिषेक, भोलेनाथ सबसे सरल उपासना से भी प्रसन्न होते हैं, …

Read More »